You’re Too Kind – A Brief History of Flattery

हैकर भाई, तुम सर्वशक्तिमान हो। सारी गलती मेरी ही थी। मेरा चिट्ठा वापस करने के लिये शुक्रिया, धन्यवाद।

चिट्ठा वापस पाने में, नानी याद आ गयीः कितनी मिन्नत, कितनी विनती, कितना मक्खन – मैं ही जानता हूं। मक्खन लगाने के लिये तो ‘You’re too Kind’ पुस्तक के सारे टिप्स प्रयोग करने पड़ गये। क्या कहा, आपने इस पुस्तक के बारे में नहीं सुना, चलिये मैं बताता हूं।

इस पुस्तक का पूरा नाम है – ‘You’re Too Kind – A Brief History of Flattery’. इसे रिचर्ड स्टेंगल ने लिखा है। यह पुस्तक वर्ष २००० में प्रकाशित हुई थी। जैसा कि इसका नाम है, यह चाटुकारिता के बारे में है। यह इस विषय की सम्पूर्ण जानकारी देती है। यह पुस्तक एक शोध पत्र की तरह है जिसके कारण यह बहुत बड़ी हो गयी है और कुछ जगह बोर करती है पर यदि आप वहां विस्तार से जानकारी नहीं चाहते हैं तो उसे छोड़ सकते हैं। यह पुस्तक यह भी बताती है कि इतिहास में किस प्रकार चाटुकारिता का प्रयोग कर लोगों ने अपना उल्लू सीधा किया है।

youre-too-kind.jpg

बाजार में मित्रता और दोस्ती को प्रभावित करने के लिए बहुत सारी पुस्तकें हैं। इनमें सबसे लोकप्रिय पुस्तक डेल कार्नेगी की ‘How to win friends and influence people’ है। डेल कार्नेगी की लिखी पुस्तक या इस तरह की दूसरी पुस्तकों का स्वरूप एक तरह का है पर ‘You’re too kind’, पुस्तक इस विषय पर दूसरा ही रूप प्रस्तुत करती है। संक्षेप में यह पुस्तक कहती है कि,

‘Ultimately we must embrace flattery to redeem praise. Small flatteries are part of the mortar that holds society together. It is one of the daily rituals that help make civil society what we want it to be. Flattery is one of those little things which, even if it is insincere, makes everyday life pleasant in tiny, incremental ways.’

मुझे लगता है कि किसी की कही बात को उसी के शब्दों में लिखना चाहिये, चाहे वह अंग्रेजी में ही क्यों न हो। अनुवाद करना बहुत मुश्किल काम है और शायद एक भाषा का दूसरे भाषा में अनुवाद कर पाना नामुमकिल है। फिर भी मेरी चिट्ठियों पर आयी टिप्पणियों के कारण मैं हिन्दी में अनुवाद करने का प्रयत्न करता हूं।

‘हमें प्रसन्न रहने के लिये चाटुकारिता या दूसरे शब्दों में, सभ्य बातें करना स्वीकार करना होगा। यह छोटी, छोटी बातें, गारे की तरह होती हैं जो कि समाज को एक जुट रखने में सहायक रहती हैं। यह एक रोज़मर्रा कार्य की तरह है जिसके द्वारा हम समाज को उस तरह से ढ़ालते हैं जैसा कि हम उसे रखना चाहते हैं। सभ्य बातें करना, बहुत छोटी सी चीज है यदि वह सही न भी हो तब भी वे जीवन को खुशहाल और सफल बनाती है’

आप यदि इसे हिन्दी चिट्ठाजगत के परिपेक्ष में देखें तो पायेंगे कैसे हम में से कैसे कुछ, इसे खुशहाल बनाते हैं और कुछ तो बस ….

इस पुस्तक की सबसे अच्छी बात, इसके अन्त में है। यहां पर कुछ टिप्स दिये गये हैं कि चाटुकारिता कैसे की जाय और इसे कैसे स्वीकार की जाय। इनमें से कुछ का प्रयोग मैंने हैकर भाई पर कर, अपना चिट्ठा वापस पाया। इनमें से कुछ खास निम्न हैं।

चाटुकारिता कैसे की जाय

  • Find something you really do like: If you’re a bit squeamish about making things up out of whole cloth, find something you honestly admire, and praise it. May be even a little more than it deserves. आप ईमानदारी से दूसरे का वह गुण ढूढ़े जो आपको पसन्द हो और उसकी कुछ ज्यादा प्रशंसा करें चाहे वह उस प्रशंसा का हकदार हो या न हो।
  • Never offer a compliment and ask a favour at the same time: When you charge for a compliment you make the receiver wary. जब आप किसी की प्रशंसा करें उस समय उससे कोई काम के लिये न कहें।
  • Flatter people behind their backs. The virtue of this is, they don’t suspect you of flattery. It makes its way to them through a third party – “He said you were brilliant” – and suddenly your target thinks much more highly of you. लोगों की प्रशंसा उनकी पीठ पीछे करें। इससे उस व्यक्ति को लगता है कि आप उसकी चाटुकारिता नहीं कर रहे हैं और आपको वह विद्वान मान लेता है। उसकी नजर में आप बहुत ऊंचे उठ जाते हैं।
  • Mix a little biter in with the sweet: In other words, blend a tiny criticism with huge praise, e.g., “I thought the play moved a little slowly in the first act, but apart from that I thought it was better than Long Day’s Journey into Night.” आप दूसरे व्यक्ति की तारीफ करते समय, उसकी थोड़ी सी आलोचना भी करें।
  • Tell a Secret: Reveal something intimate. (But not, for example, that you are a shameless flatterer.) This suggests you like and trust the other person that you think she’s understanding and discreet, and that you want the relationship to deepen. You’re flattering her with your trust. आप दूसरे को, अपने जीवन की कोई व्यक्तिगत बात बतायें। यह दूसरे को इसका ऐहसास दिलाता है कि आप उसको बुद्घिमान समझते हैं और उससे गहरी मित्रता चाहते हैं।
  • Ask for advice: We like people who think we are authorities. “Gee, Mr. Green, I was thinking of using that factory in Wisconsin to make widgets. You have a lot of experience with that – what do you think?” सलाह पूछें। हम ऎसे लोगों से प्रसन्न रहते है जो हमें किसी बात का विशेषज्ञ मानते हैं। जैसे कि अक्सर लोग सोचते हैं कि मुझे लिनेक्स के बारे में जानकारी है🙂
  • Ask a small favour: As Plutarch and La Rochefoucauld suggested, we like people for whom we do favours more than people who do favours for us. छोटे मोटे अनुग्रह के लिए कहें। हम जिन पर, कृपा करते हैं उनको हम उन लोगों से अधिक पसंद करते हैं जो हम पर कृपा करते हैं।

चाटुकारिता कैसे स्वीकार की जाय

  • ‘I’m flattered.’: This can be said with a feeling of warmth, as though you are acknowledging the person’s kindness, or it can be said with a kind of disingenuous modesty- that is, I completely agree with your evaluation, but it would be rude of me to say so. ‘मुझे प्रसन्नता हुई।’ यह आप गर्माहट और उत्साह के साथ कह सकते हैं। आप शालीनता के साथ यह भी कह सकते हैं कि आप सही हैं पर मेरे लिये यह कहना असभ्यता होगी।
  • ‘I hope you’ll speak at my funeral.’: This is ironic; it acknowledges the compliment while showing that you don’t take it all that seriously. ‘मैं आशा करता हूं कि आप मेरे अंतिम संस्कार के समय बोलेंगे।’ यह एक तरह का व्यंग है जो कि यह दर्शाता है कि आप दूसरे की बात गंभीरता से नहीं लेते हैं।
  • Ignore it, but let the person know you received it: This can be done with a smile or a knowing look, but you do not thank the person for it because you don’t want to reckon with any implicit quid pro quo. It’s the gift under the tree you choose not to open. कोई जवाब न दें पर उसे यह अवश्य जता दें कि आपको पता चल गया। आप यह मुस्करा कर या उसकी तरफ देख कर कर सकते हैं।

इस पुस्तक को पढ़ने के बाद मुझे एक वार्तालाप याद आ गया । यह कुछ इस प्रकार का है। एक सहेली ने दूसरी से कहा,

‘तुम इतना सारा क्या पूछती रहती हो, वो परेशान होंगे।’

दूसरी ने कहा,

‘सीखना है तो बिना पूछे कैसे काम चलेगा, अगर वो परेशान होते होंगे तो बता देंगे।’

मैने सोचा,

‘परेशान होंगे! अरे धन्य हुऐ हम। आज तक, किसी ने, हमें इस काबिल समझा ही नहीं।’

सांकेतिक चिन्ह

पुस्तक समीक्षा, book, book, books, Books, books, book review, book review, book review, Hindi, kitaab, pustak, Review, Reviews, किताबखाना, किताबखाना, किताबनामा, किताबमाला, किताब कोना, किताबी कोना, किताबी दुनिया, किताबें, किताबें, पुस्तक, पुस्तक चर्चा, पुस्तकमाला, पुस्तक समीक्षा, समीक्षा,

के बारे में उन्मुक्त
मैं हूं उन्मुक्त - हिन्दुस्तान के एक कोने से एक आम भारतीय। मैं हिन्दी मे तीन चिट्ठे लिखता हूं - उन्मुक्त, ' छुट-पुट', और ' लेख'। मैं एक पॉडकास्ट भी ' बकबक' नाम से करता हूं। मेरी पत्नी शुभा अध्यापिका है। वह भी एक चिट्ठा ' मुन्ने के बापू' के नाम से ब्लॉगर पर लिखती है। कुछ समय पहले,  १९ नवम्बर २००६ में, 'द टेलीग्राफ' समाचारपत्र में 'Hitchhiking through a non-English language blog galaxy' नाम से लेख छपा था। इसमें भारतीय भाषा के चिट्ठों का इतिहास, इसकी विविधता, और परिपक्वत्ता की चर्चा थी। इसमें कुछ सूचना हमारे में बारे में भी है, जिसमें कुछ त्रुटियां हैं। इसको ठीक करते हुऐ मेरी पत्नी शुभा ने एक चिट्ठी 'भारतीय भाषाओं के चिट्ठे जगत की सैर' नाम से प्रकाशित की है। इस चिट्ठी हमारे बारे में सारी सूचना है। इसमें यह भी स्पष्ट है कि हम क्यों अज्ञात रूप में चिट्टाकारी करते हैं और इन चिट्ठों का क्या उद्देश्य है। मेरा बेटा मुन्ना वा उसकी पत्नी परी, विदेश में विज्ञान पर शोद्ध करते हैं। मेरे तीनों चिट्ठों एवं पॉडकास्ट की सामग्री तथा मेरे द्वारा खींचे गये चित्र (दूसरी जगह से लिये गये चित्रों में लिंक दी है) क्रिएटिव कॉमनस् शून्य (Creative Commons-0 1.0) लाईसेन्स के अन्तर्गत है। इसमें लेखक कोई भी अधिकार अपने पास नहीं रखता है। अथार्त, मेरे तीनो चिट्ठों, पॉडकास्ट फीड एग्रेगेटर की सारी चिट्ठियां, कौपी-लेफ्टेड हैं या इसे कहने का बेहतर तरीका होगा कि वे कॉपीराइट के झंझट मुक्त हैं। आपको इनका किसी प्रकार से प्रयोग वा संशोधन करने की स्वतंत्रता है। मुझे प्रसन्नता होगी यदि आप ऐसा करते समय इसका श्रेय मुझे (यानि कि उन्मुक्त को), या फिर मेरी उस चिट्ठी/ पॉडकास्ट से लिंक दे दें। मुझसे समपर्क का पता यह है।

5 Responses to You’re Too Kind – A Brief History of Flattery

  1. एक सलाह पूछनी थी कि लिनिक्स में काम शुरु करने के लिये कहाँ से शुरु करें?
    — 🙂

    किताब की समीक्षा का बहुत बढ़िया तरीका है. वैसे सारे नियम जीवन के हर पहलू में लागू होते हैं, चाहे वो चिट्ठाकारी ही क्यूँ न हो. इतनी बड़ी किताब का पूरा सार आपने लिख दिया इस एक पाने के लेख में, बधाई. 🙂

  2. बहुत अच्छा लेख है😉

    (ह्म्म्म, शायद इस टिप्पणी को भी लेख के परिप्रेक्ष्य में उदाहरण के रूप में देखा जाय)

  3. बहुत अच्छा लगा इसे पढ़कर! ये बहुत छोटी-छोटी बातें हैं जिन
    पर अमल करके कटुता कम की जा सकती है! दूर भी!

  4. rachana says:

    ये पोस्ट पढकर कई वजहो‍ से मै बहुत खुश हूं…
    पहली बात तो ये कि आपकी बताई पुस्तक “how to win freinds—” मैने पढी है!

    दूसरा ये कि इनमे से कई बाते‍ मुझमे ’inbuilt’ है!🙂
    इसलिये आम तौर पर जल्दी से आत्मीय मित्र बन जाते है‍!

    और वार्तालाप…

    लेकिन क्या इस सबको चाटुकारिता कहा जाये?

  5. पिंगबैक: आभार … धन्यवाद « छुट-पुट

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: