गाना, विडियो अपलोड करने वालों – सावधान

मैंने कुछ समय पहले उन्मुक्त चिट्ठे पर अंतरजाल की मायानगरी में नामक एक श्रंखला लिखी थी। इस चिट्ठी में वेब के इतिहास, उसके आविष्कार, उसके भविष्य, उसके कारण उठ रही मुश्किलों, सवालों और कानूनी अड़चनों के बारे में चर्चा की गयी है। इसकी एक कड़ी ‘गोलमाल है भाई गोलमाल‘ में बताया था

‘बाज़ार में हर तरह की सीडी मिलती – कानूनी, गैर कानूनी। यदि आप कानूनी वीडियो या संगीत की सीडी खरीदते हैं तो उसे आप सुन तो सकते हैं पर उसे या उसके भाग को किसी वेबसाइट {(जैसे यूट्यूब (youtube) या ईस्निप्स् (esnips)} पर अपलोड कर, उसे सार्वजनिक कर देना, गलत है। यह कॉपीराइट का उल्लंघन है। गाने अपलोड करना कॉपीराइट का उल्लंघन है।’

यह भी सच कि कुछ परिस्थितियों में कॉपीराइट का उल्लंघन नहीं होगा। इस बारे में आप मेरी चिट्ठी, ‘मुज़रिम उन्मुक्त, हाज़िर हों‘ पर पढ़ सकते हैं।

अमेरिका में, युनिवर्सल म्यूज़िक ग्रुप ने, जैमी थॉमस रैसेट (Jammie Thomas Rasset) नामक महिला पर मुकदमा चलाया कि उसने २४ गानों को अपलोड कर दूसरों को कॉपी करने की सुविधा दी। इस मुकदमे में जैjammie thomas kidsमी का कहना था कि उसने कोई गाना अपलोड नहीं किया था।

जैमी थॉमस रैसेट अपने दो पुत्रों के साथ

जैमी के ऊपर पहले चला मुकदमा, जूरी को ठीक से न निर्देश देने के कारण रद्द कर दिया गया। उसके ऊपर फिर से मुकदमा चलाया गया। उनके पहले वकील ब्राइन टोडर (Brian Toder) ने उन्हे पैसे न मिलने के कारण मुकदमे से अपना नाम, न्यायालय से अनुमति मिलने के बाद हटा दिया था। जैमी के नये वकील, २५ साल के किवि कामारा (Kiwi Camara) हैं।

कामारा ने १९ साल की उम्र में हावर्ड विश्वविद्यालय में कानून का दाख़िला लिया था। वे हावर्ड से कानून की शिक्षा लेने वाले सबसे कम उम्र के विद्यार्थी है। वे यह मुकदमा बिना कोई फ़ीस लिये कर रहे थे। उनके मुताबिक उन्होंने यह मुकkiwi camaraदमा इसलिये लिया ताकि अन्य मुक़द्दमों में यह नज़ीर बन सके।

जैमी के वकील किवी कामारा

जूरी ने, जैमी की कोई बात नहीं मानी और उस पर ८०,००० डॉलर प्रति गाना, कुल १९ लाख २० हज़ार डॉलर का जुर्माना लगाया गया। यह इस तरह का पहला मुकदमा है।

माना जैमी गलत है।  लेकिन फिर भी क्या एक गाने के लिये ८०,००० डॉलर सही है?

इस बारे में, आप विस्तार से, नीचे ज़मेन्टा के द्वारा बताये सम्बन्धित लिखों में पढ़ सकते हैं।

 

उन्मुक्त की पुस्तकों के बारे में यहां पढ़ें।

इस चिट्ठी का पहला चित्र यहां और दूसरा  यहां से लिया गया है।

अंतरजाल की मायानगरी में

टिम बरनर्स् ली।। इंटरनेट क्या होता है।। वेब क्या होता है।। वेब २.०।। सॅमेंटिक वेब क्या है और विकिपीडिया का महत्व।। लिकिंग, क्या यह गलत है।। चित्र जोड़ना – यह ठीक नहीं।। फ्रेमिंग भी ठीक नहीं।। बैंडविड्थ की चोरी – क्या यह गैर कानूनी है।। बैंडविड्थ की चोरी – कब गैरकानूनी है।। डोमेन नाम विवाद क्या होता है।। समान डोमेन नाम विवाद नीति, साइबर और टाइपो स्कवैटिंग।। की वर्ड और मॅटा टैग विवाद।। गोलमाल है भाई गोलमाल।। गाना, विडियो अपलोड करने वालों – सावधान।। अन्तरजाल पर कानून में टकराव।। समकक्ष कंप्यूटर के बीच फाइल शेयरिंग।। शॉ फैनिंग, नैपस्टर सॉफ्टवेयर, और उस पर चला मुकदमा।। कज़ा केस।। ग्रॉकस्टर केस।। ग्रॉकस्टर केस में अमेरिकी सर्वोच्च न्यायालय का फैसला।।

ज़ेमन्टा के द्वारा बताये गये सम्बन्धित लेख

Reblog this post [with Zemanta]
Advertisements

आज़ादी का मतलब

कुछ दिन पहले लिनेक्स फाउंडेशन ने “I’m a Mac” और “I’m a PC” विज्ञापन के जवाब में लिनेक्स समर्थकों से “We’re Linux” विषय पर आधारित लिनेक्स विज्ञापन के लिये एक प्रतिस्पर्धा का आयोजन किया था। इसका निर्णय तीसरी लिनेक्स कोलेबरेशन सम्मेलन, में किया गया। यह सम्मेलन ८-१० अप्रैल २००९ में सैन फ्रांसिसको में आयोजित की गयी। इसमें इस विडियो को प्रथम पुरुस्कार मिला।


इसके बारे में विस्तार से यहां पढ़ा जा सकता है।

चित्र विकिपीडिया से

पहेली – बताइये, आज कौन सा दिवस है?

क्या आप जानते हैं कि आज कौन सा दिवस है

उन्मुक्त जी, क्या मालुम आज कौन सा दिवस है, कहां तक याद रखें। रोज ही कोई न कोई दिवस आ जाता है। अब यह कौन सा नया दिवस है?’

Read more of this post

मुझे लिनेक्स से क्यों प्यार है

इसमें शक नहीं कि चित्र हजार शब्दों से बेहतर किसी बात को कह सकता है। यह चित्र इसका प्रमाण है।

Read more of this post

२००९ मुक्त सॉफ्टवेयर और मुक्त मानक का साल होगा।

मैंने अपने इसी चिट्ठे पर दो चिट्ठियां ‘मुक्त मानक और अमेरिकी चुनाव‘  और ‘क्या ओबामा विकीपीडिया, ओपेन सोर्स सॉफ्टवेयर की तरह हैं‘, लिखी हैं। जिसमें यह बताने का प्रयत्न किया है कि ओबामा मुक्त  सॉफ्टवेयर और मुक्त मानक के समर्थक हैं।

(दायें से बायें) दो वर्ष के ओबामा, उनकी मां और पिता।

Read more of this post

विकिपीडिया स्वतंत्र हुई

Wikipedia

Image via Wikipedia

मैंने कुछ समय पहले एक चिट्ठी ‘विकिपीडिया की रिहाई?‘ नाम से पोस्ट की थी। इसमें बताया था कि विकिपीडिया जब शुरू की गयी उस  समय ग्नू मुक्त प्रलेखन लाइसेंस ही था इसलिये विकिपीडिया के जनक जिमी वेल्स ने इसे इसी लाइसेन्स के अन्दर प्रकाशित किया। हांलाकि यह लाइसेंस इस तरह के लेखों के लिये नहीं पर सॉफ्टवेयर के प्रलेखन (documentation) के बारे में था।  इसके बाद प्रोफेसर लेसिंग के द्वारा क्रिएटिव लाइसेन्स शुरू किया गया जो कि वास्तव में विकिपीडिया जैसे लेखों के लिये है।

Read more of this post

तुम जियो हज़ारों साल, साल के दिन हो हज़ार

‘उन्मुक्त जी, किसका जन्मदिन है किसे बधाई दे रहे हैं, हमें भी तो बताइये। क्या अकेले ही केक खा लेंगे?’

अरे मैं अकेले थोड़े ही केक खाना चाहता हूं। इसी लिये तो आपको बता रहा हूं। २५ साल पहले २७, सितम्बर को ग्नू योजना (GNU project)  का जन्म हुआ था।


‘ग्नू योजना? अरे,  यह क्या बला है?’

ग्नू Gnu is not Linux शब्दों के प्रथम अक्षरों से बना शब्द है। ग्नू प्रोजेक्ट को २५ साल पहले रिचार्ड स्टालमेन (Richard M Stallmann) ने शुरु किया था। इसी से फ्री या कॉपीलेफ्टेड सॉफ्टवेयर का जन्म हुआ। मैंने चिट्ठाकारी २००६ के शुरू में प्रारम्भ की थी। शुरुवात के दौरान मैंने एक श्रंखला  ओपेन सोर्स सॉफ्टवेयर के नाम से की थी इसी श्रंखला की कॉपीलेफ्ट और फ्री सौफ़टवेर: इतिहास कड़ी में इनके बारे में लिखा है। इसकी एक और कड़ी में ओपेन सोर्स सौफ्टवेर – क्या है में ओपेन सोर्स से इसका अन्तर बताया है। यहां आप इसके बारे में विस्तार से जान सकते हैं। यदि आप पूरी श्रंखला को एक साथ पढ़ना चाहते हैं तो ओपेन सोर्स सौफ्टवेर पर पढ़ सकते हैं।


आइये आप भी जन्न्मदिन केक का आनन्द लीजिये।

This photograph is not mine and is courtesy this post.

जन्मदिन पर आप कोई न कोई उपहार तो देना ही चाहेंगे। मैं बताता हूं कि क्या उपहार दें। क्यों नहीं एक वह प्रोग्राम प्रयोग करना शुरू करें जो को ओपेन सोर्स का हो।

क्या कहा आपको किसी इस तरह के प्रोग्राम के बारे में नहीं मालुम! कोई मुश्किल नहीं।  क्यों नहीं ओपेन सोर्स की पाती – बिटिया के नाम या फिर वेलेंटाइन दिवस, ओपेन सोर्स के साथ मनायें चिट्ठी पढ़ लीजिये सब मालुम हो जायगा 🙂

लिनेक्स वास्तव में ग्नू लिनेक्स है क्योंकि यह ग्नू योजना के प्रोग्रामों पर आधारित है। इसका प्रयोग क्यों नहीं करते हैं। यदि आप,

 

२५ साल पूरे होने पर इसके बारे में जानकारी के लिये, अंग्रेजीं का यह विडियो देखिये।

हिन्दी में नवीनतम पॉडकास्ट Latest podcast in Hindi
(सुनने के लिये चिन्ह शीर्षक के बाद लगे चिन्ह ► पर चटका लगायें यह आपको इस फाइल के पेज पर ले जायगा। उसके बाद जहां Download और उसके बाद फाइल का नाम अंग्रेजी में लिखा है वहां चटका लगायें।: Click on the symbol ► after the heading. This will take you to the page where file is. Click where ‘Download’ and there after name of the file is written.)

 

यह ऑडियो फइलें ogg फॉरमैट में है। इस फॉरमैट की फाईलों को आप –

  • Windows पर कम से कम Audacity, MPlayer, VLC media player, एवं Winamp में;
  • Mac-OX पर कम से कम Audacity, Mplayer एवं VLC में; और
  • Linux पर सभी प्रोग्रामो में – सुन सकते हैं।

बताये गये चिन्ह पर चटका लगायें या फिर डाउनलोड कर ऊपर बताये प्रोग्राम में सुने या इन प्रोग्रामों मे से किसी एक को अपने कंप्यूटर में डिफॉल्ट में कर ले।

सांकेतिक शब्द

Free software, information , Information Technology, Intellectual Property Rights, information technology, Internet, Open source software, software, software, technology, technologytechnology, technology, Web, आईटी, अन्तर्जाल, इंटरनेट, इंटरनेट, ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर, टेक्नॉलोजी, टैक्नोलोजी, तकनीक, तकनीक, तकनीक, सूचना प्रद्योगिकी, सॉफ्टवेयर, सॉफ्टवेर,

अरे …

कुछ समय पहले मैं साउथ अफ्रीका के इंडिपेंडेंट एलक्टोरल कमीशन (Independent Electoral Commission, Head Office, Election House, 260 Walker Street, Sunnyside, Pretoria) की वेबसाइट गया पर मैं उसे न देख सका।

इसका कारण यह था कि आप उसे केवल इंटरनेट एक्सप्लोरर वेब ब्राउज़र से ही देख सकते हैं 😦

यह सच है कि आप लिनेक्स में वाइन की सहायता से इंटरनेट एक्सप्लोरर चला सकते हैं पर मुझे शक है कि यह कानूनी है कि नहीं। क्योंकि, विंडोज़ के अधिकतर सॉफ्टवेयर में शर्त होती है कि उनके सॉफ्टवेयर को, जब तक अनुमति न हो तब तक, विंडोज़ के अलावा किसी और ऑपरेटिंग सिस्टम में नहीं चलाया जा सकता है। यह अलग बात है कि इस तरह की शर्त वैध है अथवा नहीं।

मुझे जानकारी नहीं है कि मैक कंप्यूटर में इंटरनेट एक्सप्लोरर चलता है कि नहीं।

यह भी गौर करने की बात है कि लिनेक्स या मैक कंप्यूटर का प्रयोग करने वाले क्यों इंटरनेट एक्सप्लोरर का प्रयोग करेगें।  उनके पास प्रयोग करने के लिये इससे बढ़िया वेब ब्राउज़र  हैं।

मुझे आश्चर्य है कि साउथ अफ्रीका जैसे देश में, जहां लिनेक्स का बेहतरीन डिस्ट्रीब्यूशन बनता हो वहां भी इस तरह की कोई वेब साइट है।

यह तो एक तरह का भेदभाव हुआ न।

साउथ अप्रीका के लोग भी पीछे नहीं है। उन्होंने भी वहां के मानवाधिकार आयोग में भेदभाव का दावा ठोक दिया है।

हो सकता है कि कुछ दिनो बाद मैं आपको साउथ अफ्रीका घुमाने ले चलूं  🙂

Reblog this post [with Zemanta]

माँ री ऐसा तो न सोचा था

विचारों अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता मूलभूत है। यह उन्हीं को मिल सकती है जो इस अधिकार के लिये खड़े हो सकें।

‘उन्मुक्त जी, आपका शीर्षक तो आशा जी द्वारा लिखी चिट्ठी पर कि उन्हीं की टिप्पणी है। उसका आपकी ऊपर की बात से क्या संबन्ध। आप तो बस कहीं की बात कहीं ले कर उड़ लेते हैं। बन्द करिये अपनी बकबक को।’

तिब्बती मूल के लोग सब जगह चीन में हो रहे ओलिम्पिक का विरोध कर रहे हैं। वे कहते हैं इनका चीन में मानवाधिकार का हनन हो रहा है इसलिये इनका विरोध होना चाहिये। कुछ दिन पहले न्यूयॉर्क में चीन के वाणिज्यदूतावास के सामने तिब्बती लोगों ने प्रदर्शन किया। इसका विडियो बना कर यूट्यूब में डाल दिया। वे चाहते थे कि लोग इसे देखने आयें इसलिये उन्होंने इसका शीर्षक Beijing Olympics Opening Ceremony डाल दिया।

The seat of the IOC in Lausanne.Image via Wikipedia

International Olympic Committee (IOC) (आईओसी) ने  यूट्यूब को एक नोटिस Digital Millennium Copyright Act (DMCA) (डीएमसीए) के अन्दर दिया कि यह उनके कॉपीराइट का उल्लंघन है।

WORLD INTELLECTUAL PROPERTY ORGANISATION (WIPO) (वाइपो) ने १९९० दशक के अन्त में WIPO Copyright Treaty (WCT)(डब्लूसीटी) और WIPO Performances and Phonograms Treaty (WPPT) (डब्लूपीपीटी) नामक दो संबन्धित सन्धिपत्र (sister treaties) बनाये हैं। अमेरिका ने डीएमसीए अधनियम इसी के अनुपालन में बनाया है।

आईओसी से नोटिस मिलने के मिनटों में ही यूट्यूब ने इसे हटा दिया। बाद में जब उन्होंने इस पर गौर किया तो उन्हें लगा कि यह तो किसी प्रकार डीएमसीए अधनियम का उल्लंघन नहीं करता है। उन्होने इसका विरोध किया। आईओसी को भी अपनी गलती समझ में आयी। उन्होंने अपनी नोटिस वापस ले ली। यदि वे इसकी आवाज़ नहीं उठाते तो आईओसी कभी नोटिस वापिस नहीं लेता। इसके बारे में आप यहां विस्तार से पढ़ सकते हैं और नीचे इस विडियो को देख सकते हैं।

सच  है अपने अधिकारों के लिये आवाज़ उठाइये नहीं तो कोई सुनेगा नहीं – पर आवाज़ उस तरह से नहीं जैसे कि आजकल लोग सब बन्द कर, हिंसा पर उतारू हो कर, उठाते हैं। महात्मा गांधी ने भी आवाज़ उठायी, वही रास्ता सही है।

महिला अधिकारों की भी आवाज़ उठनी चाहिये और हिन्दी चिट्ठाजगत में चोखरबाली और नारी नामक चिट्ठे यह बाखूबी करते हैं। पुरुषों को इन चिट्ठों को पढ़ना जरूरी है। यह चिट्ठे न केवल किसी बात का दूसरा स्वरूप पेश करते हैं पर हिन्दी चिट्ठाजगत की परिक्वत्ता की तरफ भी इशारा करते हैं। हांलाकि, कभी कभी इनकी चिट्ठियों और उस पर आयी टिप्पणियों पर लगता है – माँ रे ऐसा तो न सोचा था।

चोखर बालियों, नारियों, और आशा जी से, भूल चूक लेनी देनी 🙂

Reblog this post [with Zemanta]

इंगलैंड में कंप्यूटर प्रोग्राम और पेटेंट के संबन्ध में नया निर्णय

पेटेंट, बौद्धिक सम्पदा अधिकारों में सबसे महत्वपूर्ण है और शायद सबसे मुश्किल भी। मैंने इसके बारे में तीन श्रंख्ला पेटेंट, पेटेंट और कंप्यूटर प्रोग्राम, पेटेंट और पौधों की किस्में एवं जैविक भिन्नता अपने उन्मुक्त चिट्ठे पर की है। इनकी पहली कड़ी यहां, यहां, और यहां और अन्तिम कड़ी यहां, यहां, और यहां हैं। इसके बाद इन्हें संकलित कर, अपने लेख चिट्ठे पर पेटेंट, पेटेंट और कंप्यूटर प्रोग्राम, और पेटेंट और पौधों की किस्में एवं जैविक भिन्नता नाम से चिट्ठियां पोस्ट की हैं। बौद्धिक सम्पदा अधिकारों में सबसे महत्वपूर्ण है और शायद सबसे मुश्किल भी। मैंने इसके बारे में तीन श्रंख्ला पेटेंट, पेटेंट और कंप्यूटर प्रोग्राम, पेटेंट और पौधों की किस्में एवं जैविक भिन्नता अपने उन्मुक्त चिट्ठे पर की है। इनकी पहली कड़ी यहां, यहां और यहां और अन्तिम कड़ी यहां, यहां और यहां हैं। इसके बाद इन्हें संकलित कर एक इसी नाम से तीन चिट्ठियां अपने लेख चिट्ठे पर यहां, यहां और यहां रखी हैं। पेटेंट विषय में सबसे विवादास्पद विषय है कि कंप्यूटर प्रोग्राम कब पेटेंट कराया जा सकता है। इस बारे में अलग-अलग देशों के नियम भी भिन्न हैं। यह सब इस श्रंखला में विस्तार से बताया है।

कंप्यूटर प्रोग्राम को पेटेंट कराने के विषय में भी सबसे विवादास्पद बात है कि क्या कंप्यूटर के द्वारा व्यापार करने के तरीके को क्या पेटेंट कराया जा सकता है? मैंने क्या अमेरिका में कंप्यूटर प्रोग्राम के संबन्ध में पेटेंट का कानून बदलेगा की चिट्ठी पर बताया था कि अमेरिका में उलझन क्यों शुरू हुई और क्या वहां पर कानून बदलेगा। इंगलैंड में कंप्यूटर प्रोग्राम के संबन्ध में, पेटेंट के कानून में एक निर्णय के द्वारा कुछ बदलाव आया है। आज इसी की चर्चा है।


यूरोपियन पेटें‍ट कनवेशंन १९७३ (ई.पी.सी.) का अनुच्छेद ५२(२) कहता है कि मानसिक कार्य करने की प्रक्रिया, खेल खेलने के तरीके, व्यापार तरीके, और कं‍प्यूटर प्रोग्राम आविष्कार नहीं माने जायेगें। यानी कि, कं‍प्यूटर प्रोग्राम और व्यापार तरीकों को पेटेंट नहीं किया जा सकता। यही ई.पी.सी. के सदस्य देशों का भी कानून है। किन्तु व्यवहार में, यह नियम बदल गया है। यूरोप के देशों में इस बारे के कानून में विरोधाभास है। कुछ देश, यदि आवेदन पत्र – कंप्यूटर प्रोग्राम या व्यापार के तरीकों की जगह – तकनीकी में बढ़ोत्तरी की तरह प्रस्तुत किये जांय तो उस पर पेटेंट दे रहे हैं पर इंगलैंड में ऐसा नहीं हो रहा था था वे सारे आवेदन पत्रों को खारिज कर रहे थे।

United Kingdom Intellectual Property Office (UKIPO) (यू.के.आई.पी.ओ.) के समक्ष पेटेंट करवाने के लिये छः आवेदन पत्र दिये गये। इन सब में किसी भी कार्य को करने के लिये कंप्यूटर प्रोग्राम की सहायता ली जा रही है यह सारे आवेदन यू.के.आई.पी.ओ. ने इस बात पत खारिज कर दिये कि यूरोपियन पेटें‍ट कनवेशंन १९७३ (ई.पी.सी.) के अनुच्छेद ५२ के अन्दर यह पेटेंट नहीं किये जा सकते। इसके विरुद्ध अपील प्रस्तुत की गयी। जो कि In re Astron Clinica {(२००८) EWHC ८५ (Pat); २००८ WLR (D) १२} मुकदमें २८ फरवरी २००८ को स्वीकार कर ली गयी। न्यायालय का कहना है कि,

‘[C]laims to computer programs are not necessarily excluded by Article 52. In a case where claims to a method performed by running a suitably programmed computer or to a computer programmed to carry out the method are allowable, then, in principle, a claim to the program itself should also be allowable.’
यदि प्रोग्रामड् किये गये किसी कंप्यूटर पर किसी तरीके के लिये पेटेंट दिये जा सकते हैं तब सिद्धान्तः उस प्रोग्राम के लिये भी दिये जा सकते हैं।

इस निर्णय के कारण, अब कंप्यूटर प्रग्राम के लिये आवेदन पत्र केवल इस बात पर खारिज नहीं किये जा सकते हैं कि वे यूरोपियन पेटें‍ट कनवेशंन १९७३ (ई.पी.सी.) के अनुच्छेद ५२ से बाधित हैं।

हिन्दी में नवीनतम पॉडकास्ट Latest podcast in Hindi

(सुनने के लिये चिन्ह शीर्षक के बाद लगे चिन्ह ► पर चटका लगायें यह आपको इस फाइल के पेज पर ले जायगा। उसके बाद जहां Download और उसके बाद फाइल का नाम अंग्रेजी में लिखा है वहां चटका लगायें।: Click on the symbol ► after the heading. This will take you to the page where file is. Click where ‘Download’ and there after name of the file is written.)

  • अंतरजाल की माया नगरी की अन्तिम कड़ी: वेबसाईट पर विडियो और गाने अपलोड करने के कारण कॉपीराइट का उल्लंघन
  • द डबल हेलिक्स की पुस्तक समीक्षा

यह ऑडियो फइलें ogg फॉरमैट में है। इस फॉरमैट की फाईलों को आप –

  • Windows पर कम से कम Audacity, MPlayer, VLC media player, एवं Winamp में;
  • Mac-OX पर कम से कम Audacity, Mplayer एवं VLC में; और
  • Linux पर सभी प्रोग्रामो में – सुन सकते हैं।

बताये गये चिन्ह पर चटका लगायें या फिर डाउनलोड कर ऊपर बताये प्रोग्राम में सुने या इन प्रोग्रामों मे से किसी एक को अपने कंप्यूटर में डिफॉल्ट में कर ले।

सांकेतित शब्द

Internet, technology, Science, सूचना प्रद्योगिकी, सॉफ्टवेयर, सॉफ्टवेर, सॉफ्टवेर, सौफ्टवेर, आईटी, अन्तर्जाल, इंटरनेट, इंटरनेट, टेक्नॉलोजी, टैक्नोलोजी, तकनीक, तकनीक, तकनीकी,

%d bloggers like this: