मुक्त मानक और अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव

मैंने कुछ दिन पहले अपने उन्मुक्त चिट्ठे की चिट्ठी, ‘पापा, क्या आप उलझन में हैं‘, के द्वारा मुक्त मानक के महत्व की चर्चा की थी। क्या मुक्त मानक अमेरिकी राष्ट्रपती चुनाव के हिस्सा बन गये हैं?

बैरेक ओबामा का जन्म हवाई में, ४ अगस्त १९६१ को हुआ था। उनकी मां श्वेत और पिता अश्वेत थे। उन्होने ने आखरी बार अपने पिता को २ साल की उम्र में देखा था। उसके बाद उनके पिता वापस केनया चले गये और मां हवाई में ही रह गयीं।

obamas-parents.jpg

(दायें से बायें) दो वर्ष के ओबामा, उनकी मां और पिता।

यह चित्र १० दिसंबर की टाईम पत्रिका के The Identity Card लेख से है और उसी के सौजन्य से है। इसे शेल्बी स्टील (Shelby Steele) ने लिखा है। यह लेख अच्छा है। उनके जीवन की मे बहुत सी मुश्किलों उन्हें  श्वेत-अश्वेत विरासत के कारण मिली। यह लेख उसे भी बहुत खूबी से  दर्शाता है। इसे भी पढ़ें।

ओबामा का लालन पालन उनकी शवेत मां, बाबा, दादी ने किया। वे इस समय अमेरिका के लिनॉय (lllinois) राज्य से सेनेटर हैं और अमेरिका के २००८ राष्ट्रपती चुनाव में डेमोक्रटिक पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिये दावेदार हैं। राष्ट्रपति पद के लिये डेमोक्रटिक पार्टी का कौन उम्मीदवार रहेगा – वे रहेंगे या फिर सुश्री हिलेरी क्लिंटन – यह तो समय ही बतायेगा पर उनका चुनाव प्रचार जोरों से चल रहा है।

obama.jpg

ओबामा बोस्टन कॉलेज में बोलते हुऐ यह चित्र विकिपीडिया से है और ग्नू मुक्त प्रलेखन अनुमति पत्र के अंतर्गत है।

ओबामा ने अपनी पढ़ाई कोलम्बिया विश्विद्यालय और हावर्ड लॉ स्कूल से की है और दो पुस्तकें Dreams from My Father एवं The Audacity of Hope नाम से लिखी हैं।

इनके वेबसाइट पर इनकी नीतियों के बारे में है, यह भी है कि यदि वे अमेरिका के राष्ट्रपति बन गये तो वे क्या करेंगे। तकनीक से जुड़े मुद्दे पर वे कहते हैं,

‘Obama will integrate citizens into the actual business of government by: Making government data available online in universally accessible formats to allow citizens to make use of that data to comment, derive value, and take action in their own communities. Greater access to environmental data, for example, will help citizens learn about pollution in their communities, provide information about local conditions back to government and empower people to protect themselves.’
ओबामा लोगों को सरकारी कार्यों से जोड़ेंगे। इसके लिये वे लोगों को सरकारी आंकड़े सर्वव्यापी प्राप्य मानक के द्वारा उपलब्ध करायेंगे।

सवाल यह है कि उनके द्वारा प्रयोग किये गये शब्द universally accessible formats (सर्वव्यापी प्राप्य मानक) का क्या अर्थ है। क्या उनका अर्थ मुक्त मानक से है जिसके बारे में मैंने अपनी चिट्ठी में लिखा है या फिर कुछ और। एंडी (Andy Updegrove) तो यही सोचते हैं कि वे मुक्त मानक की बात कर रहें हैं। देखिये शायद यह बहस जोर पकड़े – तब ही इसका अर्थ भी स्पष्ट हो।

 

यही बात इन्होने १४ नवम्बर को गूगल मुख्यालय में बोलते हुऐ कही। यहां पर उन्होने यह भी कहा कि वे ओपेन इंटरनेट एवं नेट तटस्ता के पक्षधर हैं।

सांकेतित शब्द

Internet, Web, technology, Science, Politics, सूचना प्रद्योगिकी, सॉफ्टवेयर, सॉफ्टवेर, सॉफ्टवेर, सौफ्टवेर, आईटी, अन्तर्जाल, इंटरनेट, इंटरनेट, टेक्नॉलोजी, टैक्नोलोजी, तकनीक, तकनीक, तकनीकी,

के बारे में उन्मुक्त
मैं हूं उन्मुक्त - हिन्दुस्तान के एक कोने से एक आम भारतीय। मैं हिन्दी मे तीन चिट्ठे लिखता हूं - उन्मुक्त, ' छुट-पुट', और ' लेख'। मैं एक पॉडकास्ट भी ' बकबक' नाम से करता हूं। मेरी पत्नी शुभा अध्यापिका है। वह भी एक चिट्ठा ' मुन्ने के बापू' के नाम से ब्लॉगर पर लिखती है। कुछ समय पहले,  १९ नवम्बर २००६ में, 'द टेलीग्राफ' समाचारपत्र में 'Hitchhiking through a non-English language blog galaxy' नाम से लेख छपा था। इसमें भारतीय भाषा के चिट्ठों का इतिहास, इसकी विविधता, और परिपक्वत्ता की चर्चा थी। इसमें कुछ सूचना हमारे में बारे में भी है, जिसमें कुछ त्रुटियां हैं। इसको ठीक करते हुऐ मेरी पत्नी शुभा ने एक चिट्ठी 'भारतीय भाषाओं के चिट्ठे जगत की सैर' नाम से प्रकाशित की है। इस चिट्ठी हमारे बारे में सारी सूचना है। इसमें यह भी स्पष्ट है कि हम क्यों अज्ञात रूप में चिट्टाकारी करते हैं और इन चिट्ठों का क्या उद्देश्य है। मेरा बेटा मुन्ना वा उसकी पत्नी परी, विदेश में विज्ञान पर शोद्ध करते हैं। मेरे तीनों चिट्ठों एवं पॉडकास्ट की सामग्री तथा मेरे द्वारा खींचे गये चित्र (दूसरी जगह से लिये गये चित्रों में लिंक दी है) क्रिएटिव कॉमनस् शून्य (Creative Commons-0 1.0) लाईसेन्स के अन्तर्गत है। इसमें लेखक कोई भी अधिकार अपने पास नहीं रखता है। अथार्त, मेरे तीनो चिट्ठों, पॉडकास्ट फीड एग्रेगेटर की सारी चिट्ठियां, कौपी-लेफ्टेड हैं या इसे कहने का बेहतर तरीका होगा कि वे कॉपीराइट के झंझट मुक्त हैं। आपको इनका किसी प्रकार से प्रयोग वा संशोधन करने की स्वतंत्रता है। मुझे प्रसन्नता होगी यदि आप ऐसा करते समय इसका श्रेय मुझे (यानि कि उन्मुक्त को), या फिर मेरी उस चिट्ठी/ पॉडकास्ट से लिंक दे दें। मुझसे समपर्क का पता यह है।

4 Responses to मुक्त मानक और अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव

  1. इंटरनेट क्या सचमुच आजाद करता है? लगता है इसी सवाल के गर्भ से ओबामा का यह आश्वासन निकला है.

  2. अब तक उन्हे हिलेरी के मार्ग में बाधा या इससे उल्टा मान कर चल रहा था, यह एक नया आयाम जुड़ा.

  3. पिंगबैक: क्या ओबामा विकीपीडिया, ओपेन सोर्स सॉफ्टवेयर की तरह हैं « छुट-पुट

  4. पिंगबैक: २००९ मुक्त सॉफ्टवेयर और मुक्त मानक का साल होगा। « छुट-पुट

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: