हिन्दी कैसे सिखायी जाय

सलाह और सिखाने वाली कई वेबसाइट हैं। जो वेबसाइटें हिन्दी में जो यह काम करती हैं उनकी सूची यहां है। इनमें से कई हिन्दी भी सिखाती हैं पर हिन्दी सिखाने वाली यह वेबसाइट तो मुझे अनूठी लगती है।

hindi-study-1.jpg

हांलाकि मैं यह नहीं समझ पाया कि यह किस भाषा वालों को हिन्दी सिखा रही है।

hindi-study-2.jpg

मैंने इस पर टिप्पणी करने का प्रयत्न किया पर सफल नहीं रहा। इसे योगेश जी चलाते हैं।

योगेश जी, यदि आप मेरे यह चिट्ठी पढ़ रहें हों तो कृपया कुछ ऐसा करें कि जिस भाषा के लोगों के लिये लिख रहें हैं उस भषा को हम हन्दी भाषी भी और अच्छा समझ सकें और सीख सकें तो अच्छा हो।

के बारे में उन्मुक्त
मैं हूं उन्मुक्त - हिन्दुस्तान के एक कोने से एक आम भारतीय। मैं हिन्दी मे तीन चिट्ठे लिखता हूं - उन्मुक्त, ' छुट-पुट', और ' लेख'। मैं एक पॉडकास्ट भी ' बकबक' नाम से करता हूं। मेरी पत्नी शुभा अध्यापिका है। वह भी एक चिट्ठा ' मुन्ने के बापू' के नाम से ब्लॉगर पर लिखती है। कुछ समय पहले,  १९ नवम्बर २००६ में, 'द टेलीग्राफ' समाचारपत्र में 'Hitchhiking through a non-English language blog galaxy' नाम से लेख छपा था। इसमें भारतीय भाषा के चिट्ठों का इतिहास, इसकी विविधता, और परिपक्वत्ता की चर्चा थी। इसमें कुछ सूचना हमारे में बारे में भी है, जिसमें कुछ त्रुटियां हैं। इसको ठीक करते हुऐ मेरी पत्नी शुभा ने एक चिट्ठी 'भारतीय भाषाओं के चिट्ठे जगत की सैर' नाम से प्रकाशित की है। इस चिट्ठी हमारे बारे में सारी सूचना है। इसमें यह भी स्पष्ट है कि हम क्यों अज्ञात रूप में चिट्टाकारी करते हैं और इन चिट्ठों का क्या उद्देश्य है। मेरा बेटा मुन्ना वा उसकी पत्नी परी, विदेश में विज्ञान पर शोद्ध करते हैं। मेरे तीनों चिट्ठों एवं पॉडकास्ट की सामग्री तथा मेरे द्वारा खींचे गये चित्र (दूसरी जगह से लिये गये चित्रों में लिंक दी है) क्रिएटिव कॉमनस् शून्य (Creative Commons-0 1.0) लाईसेन्स के अन्तर्गत है। इसमें लेखक कोई भी अधिकार अपने पास नहीं रखता है। अथार्त, मेरे तीनो चिट्ठों, पॉडकास्ट फीड एग्रेगेटर की सारी चिट्ठियां, कौपी-लेफ्टेड हैं या इसे कहने का बेहतर तरीका होगा कि वे कॉपीराइट के झंझट मुक्त हैं। आपको इनका किसी प्रकार से प्रयोग वा संशोधन करने की स्वतंत्रता है। मुझे प्रसन्नता होगी यदि आप ऐसा करते समय इसका श्रेय मुझे (यानि कि उन्मुक्त को), या फिर मेरी उस चिट्ठी/ पॉडकास्ट से लिंक दे दें। मुझसे समपर्क का पता यह है।

5 Responses to हिन्दी कैसे सिखायी जाय

  1. Anunad Singh says:

    aapakii pasand hame bhii pasanda aayii.

    par is bhaashaa ke baare me.n kuchh bhii nahii kah sakataa.

  2. 🙂 शायद योगेश जी पढ़ लें..शुभकामना.

  3. कुहू says:

    मेरा भी विचार समीर जी जैसा ही है. शायद आपकी बात सुनी जाए

  4. लहर नई है अब सागर में
    रोमांच नया हर एक पहर में
    पहुँचाएंगे घर घर में
    दुनिया के हर गली शहर में
    देना है हिन्दी को नई पहचान
    जो भी पढ़े यही कहे
    भारत देश महान भारत देश महान ।
    NishikantWorld

  5. Keshav Singh Pathania says:

    aapaki site bahut acchi hi jo is des main hindi ke pragati ke sath sath vishaw main bhi iski lokpritia ko bhi bhawada de rehi hai yeh ek saharinia kadam hain .main chata huin ki hum aapana response bhi hindi main den.

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: